परिचय

अलग-अलग दिव्यांग व्यक्तियों पर ध्यान देने के लिए समाज कल्याण विभाग के आदेश संख्या- 1935 द्वारा 2 अप्रैल 2018 को एक अलग विकलांगता सशक्तिकरण निदेशालय बनाया गया|

दिव्यांगता के बारे में:

दिव्यांगता क्या है ?

दिव्यांगता ऐसी निरंतर स्थिति है जो रोजमर्रा की गतिविधियों को प्रतिबंधित करती है|यह एक शारीरिक या मानसिक स्थिति है जो किसी व्यक्ति की चाल, बुद्धिमता या गतिविधियों को सीमित करती है|

दिव्यांगता के प्रकार

  1. गतिशीलता (हरकत) जनित निःशक्तता
  2. कुष्ठ निवारित व्यक्ति
  3. प्रमस्तिष्क घात
  4. बौनापन
  5. मांसपेशीय दुर्विकास
  6. एसिड हमले से पीड़ित
  7. अंधापन (दृष्टिहीनता)
  8. मंद दृष्टि/अल्पदृष्टि
  9. बधिर
  10. सुनने में कठिनाई
  11. वाणी एवं भाषा विकलांगता
  12. बौद्धिक विकलांगता
  13. विशिष्ट अधिगम अक्षमता
  14. स्वपरायणता
  15. मानसिक बीमारी
  16. बहुविध उत्तक दृढ़न
  17. पार्किसंस रोग
  18. > हिमोफिलिया
  19. थेलेसेमिया
  20. > दात्र कोशिका रोग
  21. अन्य कोई प्रकार, जो केन्द्र सरकार द्वारा अधिसूचित किया जाय
Read More >>

दिव्यांगजनों से सम्बंधित योजनायें दिव्यांगजन सशक्तिकरण निदेशालय द्वारा संचालित किया जा रहा है|दिव्यांगजन सशक्तिकरण निदेशालय (DDE) दिव्यांग व्यक्तियों तथा मादक द्रव्यों के सेवन से प्रभावित व्यक्तियों से संबंधित सभी नीतियों और कार्यक्रमों को नियंत्रण करता है। निदेशालय विशेष रूप से निम्न कार्य का पर्यवेक्षण करता है:
  1. दिव्यांगता पेंशन का वितरण
  2. पीडब्ल्यूडी(PwDs) के कल्याण और सशक्तिकरण से संबंधित सभी योजनाओं का कार्यान्वयन और समन्वय
  3. सभी मादक द्रव्यों के सेवन से बचाव, उपचार और पुनर्वास से संबंधित कार्यक्रम
  4. दिव्यांगजनों के लिए सर्व सुलभ पहुँच प्राप्त करने से संबंधित कार्यक्रम जिनमें महत्वपूर्ण सार्वजनिक भवनों, सार्वजनिक परिवहन और सरकारी वेबसाइट को दिव्यांगों के लिए सुलभ बनाया जाना है
  5. कृत्रिम अंग उपकरण प्रदान करने के लिए कार्यक्रम (तिपहिया साइकिल, वैशाखी, कैलीपर्स आदि।)

दिव्यांगजन सशक्तिकरण निदेशालय (DDE) के अंतर्गत चल रही महत्वपूर्ण योजनायें :-

  1. पेंशन
    1. बिहार निशक्तता पेंशन योजना
    2. इंद्रा गांधी राष्ट्रीय निशक्तता पेंशन योजना
  2. संबल
  3. सिपडा

विभिन्न स्तर पर कार्यालय:-

⇒ राज्य स्तरीय मुख्यालय : समाज कल्याण विभाग
⇒ निदेशालय : दिव्यांगजन सशक्तिकरण निदेशालय
⇒ जिला : कलेक्ट्रेट में सामाजिक सुरक्षा कोषांग/ADSS कार्यालय
⇒ प्रखंड : सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी का कार्यालय (पेंशन के मामले में)